Under the guidance of Self Realized Saint Sant Shri Asaramji Bapu, several social activities are running for the upliftment of the children in which several techniques of the Indian culture are being provided to make them Ojasvi (bright and intelligent),Tejasvi (powerful)and Yashasvi(successful). In all such activates the major activity is Balsanskar Kendra which are run all over the country.

Learn More

Announcement

JyotSeJyotJogaoVidyaLabhMantraDiwaliAnushthan-2017

Today's Thought

Recent Activity

Daily Routine Of An Ideal ChildWake Up Before Sun RiseBath Prior To Sun RiseYogasan And PranayamWorship Of GodMantra Jap And DhyanTratak And MaunWorship Of The Sun GodDevotion To ParentsHave Food As PrasadRegular StudiesSadguru SevaReading ScripturesPray Before Sleeping
Jivaik-Dincharya

Stories Health-Tips
Experiences

बापू के बच्चे, नहीं रहते कच्चे

बापू के बच्चे, नहीं रहते कच्चे

विनय शर्मा, पठानकोट (पंजाब)

बापू के बच्चे, नहीं रहते कच्चे

मैं ९वीं कक्षा का छात्र हूँ । दीक्षा के बाद नियमित जप, ध्यान व प्राणायाम तथा बाल संस्कार केन्द्र में जाने से मेरी स्मरणशक्ति, निर्णयशक्ति तथा एकाग्रता में अभूतपूर्व परिवर्तन हुए । पूज्य बापूजी की कृपा से ‘कौन बनेगा करोडपति‘ शो में मैं ‘हॉट सीट‘ के लिए चुना गया । उस समय मैंने सद्गुरुदेव द्वारा प्राप्त सारस्वत्य मंत्र का मन में जप किया और एक-एक प्रश्न का जवाब देता गया । मेरी माँ ने उस दिन घर पर ‘श्री आशारामायण‘ के १०८ पाठ का आयोजन किया था । १०८ पाठ पूरे होते ही मैं २५ लाख रुपये जीत चुका था ।

पूरी डिक्शनरी याद कर विश्व रिकॉर्ड बनाया

पूरी डिक्शनरी याद कर विश्व रिकॉर्ड बनाया

विरेन्द्र मेहता, रोहतक (हरि.)

पूरी डिक्शनरी याद कर विश्व रिकॉर्ड बनाया

ऑक्सफोर्ड एडवांस लर्नर्स डिक्शनरी (अंग्रेजी छठा संस्करण) के ८०,००० शब्दों को उनकी पृष्ठ संख्यासहित मैंने याद कर लिया, जो कि समस्त विश्व के लिए किसी चमत्कार से कम नहीं है । फलस्वरूप मेरा नाम ‘लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड्स' में दर्ज हो गया । यही नहीं ‘जी' टीवी. पर दिखाये जानेवाले रियालिटी शो ‘शाबाश इंडिया' में भी मैंने विश्व रिकॉर्ड बनाया । ‘द वीक' पत्रिका के एक सर्वेक्षण में भी मेरा नाम २५ अद्भुत व्यक्तियों की सूची में है। मुझे पूज्य गुरुदेव से मंत्रदीक्षा प्राप्त होना, ‘भ्रामरी प्राणायाम' सीखने को मिलना तथा अपनी कमजोरी को ही महानता प्राप्त करने का साधन बनाने की प्रेरणा, कला, बल एवं उत्साह प्राप्त होना-यह सब तो गुरुदेव की कृपा का ही चमत्कार है |

धन्य हैं बापूजी के ‘बाल संस्कार केन्द्र' !

धन्य हैं बापूजी के ‘बाल संस्कार केन्द्र' !

शालु सिंह, वरली (मुंबई)

धन्य हैं बापूजी के ‘बाल संस्कार केन्द्र' !

मैं चौथी कक्षा में पढती हूँ। तीसरी कक्षा में मैं ६०% अंक लेकर पास हुई। पिछले साल बापूजी जब सांताक्रुज में आये थे, तब मैंने उनसे सारस्वत्य मंत्र की दीक्षा ली। मैं रोज गुरुमंत्र का जप करती हूँ और हर रविवार को ‘बाल संस्कार केन्द्र' में जाती हूँ। इस बार मुझे ९४% अंक मिले हैं। मंत्रदीक्षा लेने के बाद मैंने मांस-मछली खाना छोड दिया तो मेरे माता-पिता कहने लगे कि ‘जब बच्चे मांस-मछली नहीं खाते तो हम कैसे खायें?' फिर उन्होंने भी मांसाहार छोड दिया। जब मैं छुट्टियों में अपने गाँव गयी तब वहाँ सवेरे उठकर अपना नियम पूरा करती थी। मेरे दादा-दादी ने मुझे जप करते हुए देखा तो वे कहने लगेः ‘हमारी इतनी उम्र हो गयी है, फिर भी हमें इस सच्ची कमाई का पता नहीं है और इस नन्ही बालिका को देखो, अभी से इसे सच्ची कमाई के संस्कार मिले हैं। धन्य हैं बापूजी के ‘बाल संस्कार केन्द्र'!'
Videos Videos