बापू के बच्चे, नहीं रहते कच्चे
Next Article पूरी डिक्शनरी याद कर विश्व रिकॉर्ड बनाया
Previous Article जन्मदिवस कैसे मनायें

बापू के बच्चे, नहीं रहते कच्चे

विनय शर्मा, पठानकोट (पंजाब)

मैं ९वीं कक्षा का छात्र हूँ । दीक्षा के बाद नियमित जप, ध्यान व प्राणायाम तथा बाल संस्कार केन्द्र में जाने से मेरी स्मरणशक्ति, निर्णयशक्ति तथा एकाग्रता में अभूतपूर्व परिवर्तन हुए । पूज्य बापूजी की कृपा से ‘कौन बनेगा करोडपति‘ शो में मैं ‘हॉट सीट‘ के लिए चुना गया । उस समय मैंने सद्गुरुदेव द्वारा प्राप्त सारस्वत्य मंत्र का मन में जप किया और एक-एक प्रश्न का जवाब देता गया । मेरी माँ ने उस दिन घर पर ‘श्री आशारामायण‘ के १०८ पाठ का आयोजन किया था । १०८ पाठ पूरे होते ही मैं २५ लाख रुपये जीत चुका था ।
Next Article पूरी डिक्शनरी याद कर विश्व रिकॉर्ड बनाया
Previous Article जन्मदिवस कैसे मनायें
Print
11221 Rate this article:
1.0
Please login or register to post comments.
RSS
1345678910Last