कैसे मनायें ‘तुलसी-पूजन दिवस
Next Article सुख-शांति, समृद्धि व आरोग्य प्रदायिनी तुलसी
Previous Article Uttarayan - Festival to raise oneself

कैसे मनायें ‘तुलसी-पूजन दिवस

२४ दिसम्बर को रात्रि को सोते समय संकल्प करें किकल मैं तुलसी पूजन जरूर करूँगा २५ दिसम्बर को सुबह घर के स्वच्छ स्थान पर तुलसी के गमले को जमीन से कुछ ऊँचे स्थान पर रखें उसमें यह मंत्र बोलते हुए जल ढायें : महाप्रसादजननी सर्वसौभाग्यवद्र्धिनी आधिव्याधिहरा नित्यं तुलसी त्वं नमोऽस्तु ते ।। फिर तुलस्यै नमः मंत्र बोलते हुए तिलक करें, अक्षत पुष्प अर्पित करें तथा वस्त्र कुछ प्रसाद ढायें दीपक जलाकर आरती करें और तुलसीजी की , ११, २१, ५१ या १०८ परिक्रमा करें उस शुद्ध वातावरण में शांत होकर भगवत्प्रार्थना एवं भगवन्नाम या गुरुमंत्र का जप करें तुलसी के पास बैठकर प्राणायाम करने से बल, बुद्धि और ओज की वृद्धि होती है फिर प्रसाद में तुलसी के पत्ते डालकर महाप्रसाद बनायें और सबमें वितरित करें भगवन्नाम कीर्तन करते हुए हास्य-प्रयोग करें इस प्रकार से तुलसी-पूजन कर घर में पवित्र वातावरण बनायें तथा १२ बजे तक तुलसी के समीप रात्रि-जागरण कर भजन, कीर्तन जप करके भगवद्-विश्रांति पायें   

संकल्प :हम भी रोज तुलसी के पाँच पत्ते खाकर ठंडा पानी पियेंगे और २५ दिसम्बर को तुलसी पूजन दिवस मनायेंगे

Next Article सुख-शांति, समृद्धि व आरोग्य प्रदायिनी तुलसी
Previous Article Uttarayan - Festival to raise oneself
Print
10771 Rate this article:
4.5
Please login or register to post comments.
RSS
1345678910Last