मनुष्य की योग्यता के परम शत्रु
Next Article भगवान गणपतिजी प्रथम पूज्य कैसे बने
Previous Article तुम्हारी अंधी उदारता तुम्हें ही मुबारक

मनुष्य की योग्यता के परम शत्रु

महाभारत (शांति पर्व :२७.३१) में आता है :
'आलस्य सुखरूप प्रतीत होता है पर उसका अंत दुःख है तथा कार्यदक्षता दुःखरूप प्रतीत होती है पर उससे सुख का उदय होता है । इसके आलावा ऐश्वर्य,लक्ष्मी,लज्जा,धृति और कीर्ति - ये कार्यदक्ष पुरुष में ही निवास करती हैं,आलसी में नहीं ।'

परमहंस योगानंदजी का एक शिष्य आलसी था । एक दिन योगानंदजी ने उसे समझाया कि "आलस्य मनुष्य के लिए मृत्यु के बराबर है इसलिए आलस्य करना बुरी बात है ।"
शिष्य ने जवाब दिया : "गुरुदेव ! मै तो पहली ही बार आलस्य कर रहा हूँ ।"
"इसका मतलब यह तो नहीं है न कि अब तुम्हें आलस्य करने का अधिकार ही मिल गया है !
आज यदि तुम आलस्य कर रहे हो तो कल भी करोगे । इस तरह से आलस्य में पड़े रहने में लाभ क्या है ?
"गुरुदेव ! मात्र एक बार के आलस्य से भी पतन सम्भव है ?"
योगानंदजी बोले : एक पतन हजार पतन को निमन्त्रण देता है । आलस्य,विलास,विकारों की भी यही परम्परा है । एक बार यदि तुमने इन्हें अपना लिया तो ये हमेशा के लिए तुम्हारे मन में बस जायेंगे । अच्छा यही होगा कि तुम इनसे हमेशा दूर रहो । ये मनुष्य की योग्यता के परम शत्रु हैं ।"

बच्चों को यह दोहा कंठस्थ करवायें ।
आलस कबहुँ न कीजिये,आलस अरि सम जानि ।
आलस से विद्या घटे,बल-बुद्धि की हो हानि ।।

📚लोक कल्याण सेतु/अप्रैल २०१७
Next Article भगवान गणपतिजी प्रथम पूज्य कैसे बने
Previous Article तुम्हारी अंधी उदारता तुम्हें ही मुबारक
Print
5004 Rate this article:
3.7
Please login or register to post comments.
RSS
1345678910Last