कलियाँ महकें बन के फूल, संस्कार बनते महानता का मूल
Next Article भाई लहणा की गुरूभक्ति
Previous Article एक ओर मृत्यु तो दूसरी ओर स्वामी की आज्ञा

कलियाँ महकें बन के फूल, संस्कार बनते महानता का मूल

पूज्य संत श्री आशारामजी बापू

 पटना(बिहार) में एक संयमी,सदाचारी सज्जन रहते थे - बाबू रामदास । वे सरकारी नौकरी में ऊँचे पद पर थे। उनका पाँच वर्ष का पुत्र था कालिदास। रामदासजी अपने पुत्र में अच्छे संस्कारों के सिंचन के प्रति बहुत सजग रहते थे। वे रूपये-पैसे से भी अधिक सद्गुण-सम्पदा को महत्वपूर्ण मानते थे। कालिदास को परिवार के बड़े-बुजुर्गों द्वारा महापुरुषों के संयम,सदाचार,सत्यनिष्ठा जैसे सदगुणों को सुदृढ़ करनेवाली कहानियाँ बतायी जाती थीं।

 रामदासजी ने कालिदास को चॉकलेट्स आदि की लोलुपता में फँसने नहीं दिया था बल्कि अच्छी-अच्छी पुस्तकें,सत्साहित्य पढ़ने का चस्का लगा दिया था। कालिदास ने जब सच्चाई की महिमा पढ़ी-सुनी तो उसे यह सद्गुण बहुत भा गया। एक संत के उपदेशों में उसने पढ़ा :" सच्चाई ही खरी कमाई है। जिसे जीवन के सार सत्य के रहस्य को जानना हो,उसे यही कमाई करनी चाहिए।"
बस,अब तो उसने संकल्प ले लिया कि 'आज से मैं हमेशा सत्य बोलूँगा व सच्चाई से ही जिऊँगा।"

बाबू रामदासजी ने अपने घर के बाहर बड़ी सुंदर फुलवारी लगायी हुई थी। उनके बनाये नियम के अनुसार वहाँ के फूलों को तोड़ना सभी के लिए सर्वथा निषिद्ध था। एक दिन घर की नौकरानी कालिदास को टहलाने वहाँ ले गयी। सुन्दर फुलवारी को देखकर बालक फूल तोड़ने की जिद करने लगा। नौकरानी के मना करने पर भी उसने फुलवारी के सारे गुलाब के फूल तोड़ लिये। घर आकर उन फूलों को एक कोने में रखकर वह कमरे में चला गया।

कुछ देर बाद जब रामदासजी बाहर आये तो जमीन पर फूलों का ढेर देखकर नौकरानी को खूब डाँटने लगे। वह बेचारी चुपचाप खड़ी थी। आवाज सुन बालक बाहर आया और निर्दोष को डाँट मिलते देख बोल पड़ा : "पिताजी ! फूल इन्होंने नहीं, मैंने तोड़े थे। इन्होंने तो मुझे बहुत मना किया पर मैं तोड़े जा रहा था। गलती मेरी है।" 

अपने नन्हे पुत्र का सत्य बोलने का साहस देख रामदासजी बहुत प्रसन्न हुए। उस पाँच वर्ष के बालक की यह पहली खरी कमाई थी। उसे गोद में उठाकर बोले : "शाबाश बेटे ! तुमने मार पड़ने के महत्व न देकर सत्य बोलने का साहस किया है । तुम्हारी सच्चाई के आगे इन फूलों का कोई मूल्य नहीं है। तुम हमेशा ऐसे ही सच बोलते रहना। सत्य में बड़ा बल है। परमात्मा सच बोलनेवाले की कदम-कदम पर सहायता करते हैं।" वे कुछ देर शांत हो गए फिर आशीर्वाद देते हुए बोले :"बेटे ! तुम्हारी सत्यनिष्ठा से मुझे बहुत प्रसन्नता व शांति मिली है। इसलिए आज से मैं तुम्हें 'सत्यव्रत' नाम से पुकारूँगा।"
 कितने बुद्धिमान एवम् कुशल अभिभावक थे रामदासजी ! जितनी उन्हें बाहरी फूलों के बगीचे
सींचने-महकाने में ख़ुशी होती थी,उससे भी अधिक उन्हें बालकों में सद्गुण-सुसंस्काररूपी भीतरी फूलों को खिलाने व पोषित करने में प्रसन्नता का अनुभव होता था।

रामदासजी की पुष्प-वाटिका की छोटी-सी सुंदर कली 'सत्यव्रत'समय पाकर विश्व-उपवन को भारतीय संस्कृति की महक से महकाने वाले एक सुविकसित पुष्प में परिणत हुई। 
सत्यव्रत की सत्यनिष्ठा के प्रभाव से वेदों और शास्त्रों के गूढ़,रहस्यमय अर्थ भी उसके हृदय में प्रकट होने लगे। एक समय का नन्हा-सा बालक कालिदास आगे चलकर वेद-वेदांगों के महान विद्वान् पंडित सत्यव्रत सामश्रमी के नाम से विख्यात हुआ और हिन्दू धर्म के छः वेदांगों में से एक 'निरुक्त' जैसे महान ग्रन्थ पर उन्होंने टीका लिखी।

 ऐसे सत्यनिष्ठ दृढ़व्रती बालक को यदि किन्हीं आत्मवेत्ता महापुरुष का सान्निध्य मिल जाता तो वह ब्रह्मवेत्ता महापुरुष भी हो सकता था।

 🖋प्रश्नोत्तरी....

 कालिदास को परिवार में बड़े-बुजुर्गों कौनसी कहानियाँ सुनायी जाती थीं ?

 रामदासजी ने कालिदास को चॉकलेट्स आदि की लोलुपता में फँसने नहीं दिया था बल्कि.................पढ़ने का चस्का लगा दिया ।

 ✍🏻आपके बेटे-बेटियों में भी कोई-न-कोई सद्गुण जरूर होंगे। क्या आप भी रामदासजी की तरह बच्चों को उत्साहित करके उन सदगुणों को पोषित-संवर्धित करेंगे ? इससे न केवल आपका परिवार-पड़ोस सुसंस्कारी बनेगा अपितु देश को भी अच्छे नागरिक प्रदान करने की महती सेवा आपके द्वारा हो जायेगी।

 📚ऋषि प्रसाद/अगस्त २०१३/९
Next Article भाई लहणा की गुरूभक्ति
Previous Article एक ओर मृत्यु तो दूसरी ओर स्वामी की आज्ञा
Print
8640 Rate this article:
5.0
Please login or register to post comments.
RSS
1345678910Last