गजब की याददाश्त
Next Article बालक आसुमल का बचपन
Previous Article मिथ्या संसार

गजब की याददाश्त

पूज्य बापूजी के सत्संग में आता है कि तीन साल की उम्र में ही हम पर वाणी देवी की ऐसी कृपा थी कि क्या बतायें ,एक बार चौथी कक्षा के बच्चों को शिक्षक ने एक कविता याद करने को दी थी परंतु कोई भी याद करके नहीं सुना पाया। अब सबको मार पड़नेवाली थी और उनमें हमारा भाई भी था। 

मैं भी उनके साथ ही बैठा था तो भाई के नाते मेरा दिल पिघला और मैंने शिक्षक से कहा ‘‘इनको मत मारो ।” शिक्षक ने कहा: “तो क्या तू सुना देगा मैंने पूरी कविता सुना दी तो शिक्षकसहित सभी लोग चकित रह गये। हमारी १० वर्ष की उम्र में तो ऋद्धि-सिद्धि की झलकें देखी गयी थीं।" 

बापूजी के बड़े भाई की दुकान पर एक व्यक्ति काम करता था। पूज्यश्री की पढाई तीसरी कक्षा तक हुई थी और वह बी.ए. तक पढ़ा था मगर बापूजी उसके द्वारा हिसाब में हुई भूल पकड़ लेते थे।

बचपन में ही ऐसी प्रतिभा के धनी थे। बापूजी छोटी उम्र में ही बड़े-बड़े लोगों की समस्याओं को हँसते-खेलते सुलझा देते थे। ऐसे एक नहीं, अनेक प्रसंग हैं। ध्यान करते थे इसलिए एकाग्रता और कुशाग्र बुद्धि के धनी थे। माता-पिता व गुरु की सेवा से तथा परोपकार से बुद्धि कुशाग्र बनती है।

तीव्र बुद्धि एकाग्र नम्रता,
त्वरित कार्य औ’ सहनशीलता ॥
Next Article बालक आसुमल का बचपन
Previous Article मिथ्या संसार
Print
5666 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.
RSS
1345678910Last