कोनासन
Next Article जैसा विश्वास और जैसी श्रद्धा वैसा ही फल प्राप्त होगा
Previous Article बाल संस्कार केन्द्र के 21 अनमोल रत्न

कोनासन

Conanson

इस आसन में शरीर का आकार कोन (कोण) के समान हो जाता है, इसलिए इसे ‘कोनासन' कहते हैं ।
🎗लाभ : 1. कफ की शिकायत दूर होती है ।
2. बौनापन दूर करने में मदद मिलती है ।
3. कमर तथा पसलियों का दर्द ठीक हो जाता है ।
4. स्वास्थ्य के साथ-साथ सौंदर्य भी बढता है ।

🎗विधि : 1. दोनों पैरों को डेढ-दो फुट के अंतर पर रखते हुए सीधे खडे हो जायें । अब दायें हाथ को नीचे दायें पैर के पंजे पर रखते हुए बायें हाथ को ऊपर ले जायें । दृष्टि ऊपर हाथ की ओर हो । इस स्थिति में 5-6 सेकंड रहें ।                                                                                                                 2. मूल स्थिति में आकर इसी क्रिया को पुनः दूसरी ओर से करना चाहिए । ध्यान रहे कि कमर का हिस्सा यथासम्भव स्थिर रहे । इसे 4-6 बार करें ।

🚫सावधानी : कुछ लोग इस आसन को जल्दी-जल्दी करने का प्रयत्न करते हैं और बार-बार करते हैं । उसमें विशेष लाभ नहीं है । इसलिए इसे धीरे-धीरे करें ।

📚बाल संस्कार पाठ्यक्रम (जनवरी प्रथम सप्ताह)
Next Article जैसा विश्वास और जैसी श्रद्धा वैसा ही फल प्राप्त होगा
Previous Article बाल संस्कार केन्द्र के 21 अनमोल रत्न
Print
209 Rate this article:
4.0

Please login or register to post comments.

Name:
Email:
Subject:
Message:
x
RSS
12345678910Last