बाल संस्कार केन्द्र के बच्चे कैसे स्वागत करें नूतन वर्ष
Next Article कैसे करें नूतन वर्ष का स्वागत
Previous Article कैसे हुआ गुड़ी पाड़वा का प्रारंभ

बाल संस्कार केन्द्र के बच्चे कैसे स्वागत करें नूतन वर्ष

आपने बाल संस्कार में नूतन वर्ष की महिमा सुनी । नये वर्ष के दिन हम जैसे रहते हैं,हमारा पूरा साल वैसे ही बीतता है ।आपको याद आया कि पूज्य बापूजी सत्संग में बताते हैं कि सुबह 3 से 5 के बीच जो प्राणायाम करते हैं उनका प्राणबल,मनोबल और बुद्धिबल बढ़ता है । पूज्य बापूजी जैसी दिनचर्या बताते वैसे आपने अपनी दिनचर्या बनायी । 
आपने उस दिन नियम लिया कि मैं रोज 4.30 से 5.00 के बीच प्राणायाम करूँगा । 
नये साल के दिन आपने जप-ध्यान आदि किया । 
माता-पिता और बड़ों को प्रणाम करके आपने दिन की शुरूआत की । 
घर के दरवाजे में नीम और अशोक के पत्तों की बंधनवार लगाया।
नीम के 21 कोमल-कोमल पत्ते और 1 काली मिर्च 15 दिन तक खाने का नियम लिया । 
आपने उस दिन संकल्प किया बीते हुए वर्ष में जाने-अनजाने जो गलतियाँ हुई हैं उसे दुबारा ना दोहराकर सही मार्ग पर चलूँगा और पूज्य बापूजी से प्रार्थना की कि ‘हमारा जीवन मधुमय हो, हमारा व्यवहार व वाणी मधुमय हो, हमारी प्रत्येक चेष्टा मधुमय हो, ईश्वर की ओर ले जानेवाली हो ।
आपने सबको मंगलमय दिवस की शुभकामनाएँ दी । आप सदा प्रसन्न,उत्साही,ताजगीपूर्ण रहे,थकावट बिल्कुल महसूस ही नहीं हुई । आपको तब समझ आया कि भारतीय संस्कृति का एक-एक त्यौहार हमें जीवन में प्रसन्न, उत्साही रहने की सीख देता है ।

✒प्रश्न : सुबह 3 से 5 के बीच प्राणायाम करने से क्या लाभ होता है ?

📚बाल संस्कार पाठ्यक्रम-मार्च
Next Article कैसे करें नूतन वर्ष का स्वागत
Previous Article कैसे हुआ गुड़ी पाड़वा का प्रारंभ
Print
679 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.
RSS
1345678910Last