शुरुआत में जरा सा - पर बाद में मौत
Next Article विद्यार्थियों को बुद्धिशक्ति बढ़ाने की युक्ति
Previous Article ऐसा जन्मदिवस भारतवासी मनाएं

शुरुआत में जरा सा - पर बाद में मौत

व्यसन का शौक कुत्ते की मौत

कैंसर, नपुंसकता, हृदयरोग, टी.बी., लकवा, अंधापन, माइग्रेन, श्वासरोग, ब्रेन ट्यूमर जी हाँ, ये ही हैं आपकी दुर्दशा के जिम्मेदार !

"गुटखा खाकर गाल जलाया, कल तक कहते थे फैशन है।"
"दुःख नरक का भोग रहे हो, अब यह भी कोई जीवन है ?"

तम्बाकू में उपस्थित घातक रसायन ʹनिकोटिनʹ हृदय तथा मस्तिष्क को हानि पहुँचाता है।

पान मसाला घुनयुक्त सुपारियों को पीसकर, छिपकली का चूर्ण, सुअर के मांस का चूर्ण व तेजाब मिला के बनाया जाता है। इसके सेवन से शरीर का सारस्वरूप धातु कमजोर व शारीरिक शक्ति क्षीण हो जाती है एवं मुँह, गले आदि का कैंसर होता है।

जरा सोचो...
कहीं आप भी इसी मार्ग के राही तो नहीं ?

मेरा संकल्पः ʹनहीं ! कभी नहीं !! मैं अपने शरीर की ऐसी दुर्दशा कभी नहीं होने दूँगा। मैं इसी क्षण दृढ़ संकल्प करता हूँ कि जीवन में कभी भी इन व्यसनों को नहीं अपनाऊँगा। मेरा दृढ़ आत्मबल एवं ईश्वर की अनंत कृपा अवश्य मेरा साथ देंगे। ૐ....ૐ....ૐ....ʹ
Next Article विद्यार्थियों को बुद्धिशक्ति बढ़ाने की युक्ति
Previous Article ऐसा जन्मदिवस भारतवासी मनाएं
Print
623 Rate this article:
2.0
Please login or register to post comments.
RSS
1345678910Last