दिमाग का कचरा नदी में डाल दो
Next Article अब ध्यान रखना
Previous Article गुरु बिन भवनिधि तरहिं न कोई

दिमाग का कचरा नदी में डाल दो

गुजरात के मेहसाणा जिले के लाडोल गाँव की कमला बहन पटेल सन् 1978 से पूज्य बापूजी का सत्संग सान्निध्य पाती रही हैं । उनके द्वारा बताये गये बापूजी के कुछ मधुमय प्रसंग : 

दिमाग का कचरा नदी में डाल दो !

मैं ऊंझा में शासकीय शिक्षिका थी । मेरी सहेली बापूजी से दीक्षित थी । उसने मुझे आश्रम की एक पुस्तक दी । उसे पढ़कर मुझे बहुत शांति व आनंद मिला और बापूजी के दर्शन की इच्छा हुई । 

1978 में मैं पहली बार बापूजी का सत्संग सुनने अहमदाबाद आश्रम आयी । फिर तो ऐसा रंग लगा कि मैं हर रविवार को आने लगी और 1979 के उत्तरायण शिविर में मुझे मंत्रदीक्षा लेने का सौभाग्य प्राप्त हुआ । सन् 1980 के चेटीचंड शिविर में गाँव के कई लोगों के साथ मैं अपने पिताजी (पुरुषोत्तम पटेल) को भी लेकर मंत्रदीक्षा दिलाने के लिए अहमदाबाद आश्रम आयी थी ।

लोगों ने बताया कि बापूजी सत्संग-मंडप में हैं तो हम लोग सीधे वहीं पहुँचे । उस समय सत्संग-मंडप में कूलर लगाने की व्यवस्था हो रही थी । बापूजी बाहर आये,सबको नजदीक से दर्शन देते हुए मेरे पिताजी के पास आये तो उनको कुछ तेज आवाज में बोले : ‘‘काका ! दूर खिसको । तुम लोगों के लिए ही सब व्यवस्था हो रही है । 

बापूजी ने अपनी मौज में ऐसा कहा परंतु मेरे पिताजी को बुरा लग गया । मेरे पास आकर बोले : ‘‘नदी में नहाने जाना है,तौलिया दो । दोपहर के दो-ढाई बजे थे, मैंने मना किया परंतु वे नहीं माने । मन-ही-मन मैंने प्रार्थना की : ‘बापूजी ! मेरे पिताजी मंत्रदीक्षा के लिए आये हैं, कितने जन्मों के बाद यह घड़ी आयी है,इसलिए कृपा करना । करुणावत्सल गुरुदेव ने मेरी प्रार्थना सुन ली । 

नदी में स्नान करके पिताजी आये तो बहुत आनंद में थे । उन्होंने बताया कि ‘‘बापूजी नदी में आये थे ।
हमने कहा : ‘‘बापूजी तो इधर ही मंडप में थे, नदी में तो गये ही नहीं ! 
‘‘नहीं, बापूजी आये थे । मैं स्नान करने के लिए नदी में गया तो मेरे सामने बापूजी आ गये ।
बापूजी ने कहा कि ‘‘तुम्हारे मगज (दिमाग) में जो कचरा भरा है, वह नदी में डाल दो ! 
तो मैंने कहा : ‘‘बापूजी ! मुझ पर दया करना । फिर पूज्यश्री वहाँ से चले आये । तो इस प्रकार से बापूजी भक्तों का भला करने के लिए क्या-क्या लीलाएँ करते हैं !                                                                                                

📚बाल संस्कार पाठ्यक्रम : जुलाई (प्रथम सप्ताह)
Next Article अब ध्यान रखना
Previous Article गुरु बिन भवनिधि तरहिं न कोई
Print
119 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.
RSS
1345678910Last