प्रातः पानी प्रयोग
Next Article कर्मों का फल
Previous Article बच्चों पर तो वे जल्दी खुश होते है

प्रातः पानी प्रयोग

प्रातः सूर्योदय से पूर्व उठकर, मुँह धोये बिना,मंजन या दातुन करने से पूर्व हर रोज करीब सवा लीटर (चार बड़े गिलास) रात्रि का रखा हुआ पानी पीयें। उसके बाद 45 मिनट तक कुछ भी खायें-पीयें नहीं। पानी पीने के बाद मुँह धो सकते हैं, दातुन कर सकते हैं। 

जब यह प्रयोग चलता हो उन दिनों में नाश्ता या भोजन के दो घण्टे के बाद ही पानी पीयें।

प्रातः पानी प्रयोग करने से हृदय, लीवर, पेट, आँत के रोग एवं सिरदर्द, पथरी, मोटापा, वात-पित्त-कफ आदि अनेक रोग दूर होते हैं। मानसिक दुर्बलता दूर होती है और बुद्धि तेजस्वी बनती है। शरीर में कांति एवं स्फूर्ति बढ़ती है।

 ✍🏻 बच्चे एक-दो गिलास पानी पी सकते हैं।
Next Article कर्मों का फल
Previous Article बच्चों पर तो वे जल्दी खुश होते है
Print
2421 Rate this article:
4.3
Please login or register to post comments.
RSS
First45679111213Last