Health and Yoga_2
Health and Yoga_2
Health and Yoga_1
Health and Yoga_1
स्वास्थ्य सुरक्षा

स्वास्थ्य सुरक्षा

Health Protection

 प्रतिदिन बच्चों को प्यार से जगायें व उन्हें बासी मुँह पानी पीने की आदत डालें |

चाय की जगह ताजा दूध उबालें व गुनगुना होने पर बच्चों को दें | दूध से प्राप्त प्रोटीन्स व कैल्शियम शारीरिक विकास के लिए अति महत्त्वपूर्ण होते हैं |

सुबह नाश्ते में तले हुए पदार्थों की जगह उबले चने, अंकुरित मूँग,मोठ व चने की चाट बनायें | इसमें हरा धनिया, खोपरा,टमाटर,हलका - सा नमक व जीरा डालें | ऊपर से नींबू निचोड़कर बच्चों को दें | यह ‘विटामिन ई’ से भरपूर है,जो चेहरे की चमक बढ़ाकर ऊर्जावान बनायेगा |

सब्जियों का उपयोग करने से पहले उन्हें २-३ बार पानी से धो लें | छीलते समय पतला छिलका ही उतारें क्योंकि छिलके व गुदे के बीच की पतली परत ‘विटामिन बी’ से भरपूर होती है |

सब्जियों को जरूरत से अधिक देर तक न पकायें, नहीं तो उनके पोषक तत्त्व नष्ट हो जायेंगे | पत्तेदार हरि सब्जियों से मिलनेवाले लौह (आयरन) तथा खनिज लवणों (मिनरल साल्ट्स) की कमी को कैप्सूल व दवाईयों के रूप से पूर्ति करने से बेहतर है कि इनको अपने भोजन में शामिल करें |

सप्ताह में १-२ दिन पत्तेदार हरि सब्जियाँ जैसे पालक, मेथी, मूली के पत्ते, चौलाई आदि की सब्जी जरुर खायें | इस सब्जियों को छिलकेवाली दालों के साथ भी बना सकते हैं क्योंकि दालें प्रोटीन का एक बड़ा स्त्रोत हैं |

चावल बनाते समय माँड न निकालें |

चोकरयुक्त रोटी साधारण रोटी की तुलना में अधिक ऊर्जावान होती है | आटा हमेशा बड़े छेदवाली छन्नी से ही छानें |

दाल व सब्जी में मिठास लानी हो तो शक्कर की जगह गुड़ डालें क्योंकि गुड़ में ग्लुकोज, लौह-तत्त्व,कैल्शियम व केरोटिन होता है | यह खून की मात्रा बढ़ाने के साथ-साथ हड्डियों को भी मजबूत बनाता है |

जहाँ तक सम्भव हो सभी खट्टे फल कच्चे ही खायें व खिलायें क्योंकि आँवले को छोड़कर सभी खट्टे फलों व सब्जियों का ‘विटामिन सी’ गर्म करने पर नष्ट हो जाता है |

भोजन के साथ सलाद के रूप में ककड़ी, टमाटर, गाजर, मूली, पालक, चुकंदर, पत्ता गोभी आदि खाने की आदत डालें | ये आँतों की गति को नियमित रखकर रोगों की जड़ कब्जियत से बचायेंगे |

दिनभर में डेढ़ से दो लीटर पानी पियें |

बच्चों को चॉकलेट, बिस्कुट की जगह गुड़, मूँगफली तथा तिल की चिक्की बनाकर दें | गुड़ की मीठी व नमकीन पूरी बनाकर भी दे सकते है |

जहाँ तक हो सके परिवार के सदस्य एक साथ बैठकर भोजन करें | कम-से-कम शाम को तो सभी एक साथ बैठकर भोजन कर ही सकते हैं | साथ में भोजन करने से पूरे परिवार में आपसी प्रेम व सौहार्द की वृद्धि तथा समय की बचत होती है |

✍🏻उपरोक्त बातें भले ही सामान्य और छोटी-छोटी है लेकिन इन्हें अपनायें, ये बड़े काम की हैं |

📚लोक कल्याण सेतु – मार्च २०१४ से
Print
1046 Rate this article:
3.7
Please login or register to post comments.