Health and Yoga_2
Health and Yoga_2
Health and Yoga_1
Health and Yoga_1
धनुरासन
Next Article कोनासन

धनुरासन

Dhanurasan

इस आसन में शरीर का आकार धनुष के समान हो जाता है, इसलिए इसे ‘धनुरासन कहते हैं ।

💢लाभ 
 1. कब्ज की शिकायत बिल्कुल नहीं रहती ।
2. जठराग्नि प्रदीप्त होती है व पेटदर्द ठीक हो जाता है ।
3. खिसकी हुई नाभि अपने स्थान पर आ जाती है ।
4. रीढ़ की हड्डी लचीली बनती है तथा बुढ़ापा जल्दी नहीं आता । यह मधुमेह,गैस व आँतों की तकलीफवाले मरीजों के लिए वरदानस्वरूप है ।

💢विधि 
1. पेट के बल लेटकर पैरों को ऊपर उठाकर मोड़ें । 
हाथों से टखनों को भली प्रकार पकड़ लें ।

2. फिर खूब श्वास भरकर सीना व सिर ऊपर की ओर उठा लें ।   
                                                                                                          3. हाथों को सीधा व कड़ा बनाये।पैरों को भी कड़ा बनाये । दोनों घुटनों को साथ-साथ रखें ।

 जितना समय सुखपूर्वक कर सकें, उतना ही समय करें । धीरे- धीरे मूल स्थिति में आकर सामान्य श्वास-प्रश्वास लें ।

🚫सावधानी : यह आसन हर्निया की शिकायतवालों को बिल्कुल नहीं करना चाहिए ।

📚बाल संस्कार पाठ्यक्रम : दूसरा सप्ताह
Next Article कोनासन
Print
1912 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.