आवश्यकता है वीर सपूतों की
Next Article बिना मुहुर्त के मुहुर्त

आवश्यकता है वीर सपूतों की

The need of the warriors

बात उस समय की है जब हिंदुओं पर मुगलों का अत्याचार अपनी चरम सीमा पर था और हिन्दू अपने को दीन व लाचार मानकर सब सह रहे थे।
औरंगजेब के खौफ महाराष्ट्र के गाँवों में छाया हुआ था। उसके क्रूर सैनिक आकर आतंक मचाते थे, युवतियों को उठाकर ले जाते थे।, किसानों की भेड़-बकरियों व गायों को अपना भोजन बना लेते थे, फसलों को तहस-नहस कर देते थे।

एक बार दशहरे के पर्व पर छत्तरपति शिवजी के पौत्र साहूजी महाराज के मंत्री बाजीराव पेशवा, जो वीर पराक्रमी व बड़े बुद्धिमान भी थे, अपने सैनिकों के साथ खानदेश की मुहिम पर निकले। 'होल' गाँव से गुजर रहे थे कि किसी पेड़ के पीछे से एक मिट्टी का ढेला बड़े जोर से आकर उनके मुँह पर लगा। उनके मुँह से खून आने लगा। इतने में एक बालक गाँव की तरफ भागता दिखाई दिया। बाजीराव ने सैनिकों को आदेश दिया :"जाओ, उस बालक को शीघ्र पकड़कर ले आओ।" जब पेशवा के सामने उस बालक को लाया गया तो पीछे-पीछे उसकी विधवा माँ और मामा भी आ गये।

बालक ने आते ही निडरता से व्यंगात्मक प्रश्न किया :"क्यों, मिट्टी के ढेले से पेट नहीं भरा क्या?"

बाजीराव उस बालक की निर्भयता  देखकर दंग रह गये! बालक से पूछा : "तुमने मुझे ढेला क्यों मारा?"

बालक : "शुक्र मनाओ कि ढेला ही मारा है।

तुम लोग हमें लाचार मानकर हमारी भेड़-बकरियों को मार के खा जाते हो, किसानों की फसलें जला देते हो। लेकिन अब हम नहीं सहेंगे, हम लड़ेंगे और तुम्हें मुँह की खानी पड़ेगी, जैसे अभी खायी है।''

पेशवाजी तनिक भी क्रोधित नहीं हुए बल्कि बालक की निर्भयता व वीरता देखकर बहुत प्रसन्न हुए और बोले ''बेटा मैं तुम्हारी निडरता देख बहुत खुश हुआ लेकिन हम वे नहीं हैं जो तुम समझ रहे हो। मैं तो साहूजी महाराज का मंत्री बाजीराव हूँ। हमारे महाराज तो आप सबके रक्षक हैं।"

बालक शर्मिंदा होते हुए बोला ''क्षमा कीजिये। आप ही की तरह वे मुगल सैनिक घोड़े पर सवार होकर आते हैं जिस कारण मैं धोखा खा गया।"

पेशवा ने बालक की माँ और मामा से कहा "यह बालक बड़ा निर्भय और होनहार है। इस कोमल उम्र में इतना साहस धन्य है इसका अपनी मातृभूमि के प्रति प्रेम बचपन में ही वतन के लिए मर-मिटने का अद्भुत भाव है । यह जरूर एक दिन बहादुर सिपहसालार बनकर मराठा साम्राज्य में चार चाँद लगायेगा । अगर आप लोग अनुमति दें तो इसे महाराज की सेवा के लिए ले जाऊँ ?'

माँ और मामा ने गौरवान्वित हो स्वीकृति दे दी। यही बालक आगे चलकर मराठा साम्राज्य का वीर
सेनापति 'मल्हारराव होल्कर' के नाम से शौर्य एवं पराक्रम का प्रतीक बनकर चमक उठा। सारे मुगल  सरदार इसके नाम से थर-थर काँपते थे।

हमारे देश में मल्हारराव होल्कर, हकीकत राय, गुरु गोविंदसिंह के दो वीर पुत्र, स्कंदगुप्त, छत्रपति वीर शिवाजी ऐसे अनेक वीर बालक हुए हैं,
जिन्होंने अपनी संस्कृति, धर्म व राष्ट्र की रक्षा के लिए अपने प्राणों तक की परवाह नहीं की। हर बच्चे में इनके समान साहस, शौर्य व योग्यताएँ
छुपी हुई हैं। माँ-बाप को चाहिए कि वे अपने बच्चों में बाल्यकाल में ही ऐसे संस्कारों का सिंचन करें कि उनमें भी अपनी संस्कृति व देश के लिए कुछ कर दिखाने की उमंग जगे। आज की मैकाले शिक्षा पद्धति,फिल्मों, मीडिया आदि के माध्यम से हमारे देश के नौनिहालों को भ्रमित किया जा रहा है कि वे पाश्चात्य जगत के अंधानुकरण के लिए विवश हो जायें और अपनी भारतीय संस्कृति व धर्म के प्रति हीनभावना से ग्रस्त हो जायें। अतः हमें अपने देश की बाल पीढ़ी की ऐसे वातावरण से रक्षा करनी होगी और संतों महापुरुषों के मार्गदर्शन का लाभ दिलाना होगा,जिससे उनका जीवन चमक उठे और वे अपने देश,संस्कृति व माता-पिता को गौरवान्वित कर सकें।

📚 ऋषि प्रसाद/मई २०१४/२५७
Next Article बिना मुहुर्त के मुहुर्त
Print
589 Rate this article:
5.0

Please login or register to post comments.

Name:
Email:
Subject:
Message:
x