holi banner for bskHoliBanner3

Videos

आनंदस्वरूप के ज्ञान-माधुर्य को जगाने का उत्सव

आनंदस्वरूप के ज्ञान-माधुर्य को जगाने का उत्सव

होली का त्यौहार छोटेपन-बपन की ग्रंथियों को हटाकर छोटे और बडे की गहराई में जो सत्-चित्आनंदस्वरूप है, उसके उल्लास को, ज्ञान को, माधुर्य को जगाने का उत्सव है फाल्गुन की पूर्णिमा परमात्मा में विश्रांतिवाले प्रह्लाद की विजय का दिवस है जिसे देह और भोग ही सत्य दिखें उसका नाम है हिरण्यकशिपु तथा देह भोग मिथ्या हैं, उनको जाननेवाला परमात्मा सत्य है, यह जिसको दिखे उसका नाम है प्रह्लाद ! हिरण्यकशिपु के प्रयत्नों के बावजूद भी जब प्रह्लाद भक्ति से डिगा, तब उसने प्रह्लाद को मारने का काम अपनी बहन होलिका को सौंपा होलिका को आग में जलने का वरदान मिला था होलिका की गोद में प्रह्लाद को बिठा दिया गया और आग लगा दी गयी परंतु होलिका जल गयी और प्रह्लाद जीवित रह गये क्योंकि प्रह्लाद सत्य की शरण थे, ईश्वर की शरण थे

महापुण्यदायी होली की रात्रि

होली की रात्रि चार पुण्यप्रद महारात्रियों में आती है होली की रात का जागरण, जप, ध्यान, महापुरुषों का सान्निध्य पुण्य का ढेर-ढेर पैदा करता है

 कैसे पायें स्वास्थ्य-लाभ ?

* होली की रात को बिना तेल-घी का भोजन करना चाहिए सूखे अन्न से आपके कफ का अवशोषण होगा, पाचन-तंत्र ठीक बना रहेगा

* इन दिनों में कीर्तन-यात्रा निकालना विशेष हितकारी है

* नीम सेवन तथा नमक बिना का भोजन करें

* इस मौसम में गन्ना चूसना, करेला खाना स्वास्थ्यप्रद है प्राणायाम, आसन करने चाहिए

* कूद-फाँद करना और नया धान्य, सृष्टिकर्ता को अपर्ण करके बाटँत हएु खाना-खिलाना चाहिए

* पूनम के दिन पंचगव्य का प्रसाद लेना चाहिए इससे हड्डी तक के रोगों का शमन होता है पलाश के फूलों से होली खेलें होली के बाद सूर्य की किरणें धरती पर सीधी पडेंगी तो सप्तधातुएँ थोडी कम्पायमान होंगी शरीर में रोगप्रतिकारक शक्ति मजबूत रहे इसलिए पलाश के पुष्पों से होली खेलने की व्यवस्था थी दुर्भाग्यवश जब रासायनिक रंगों से होली खेलते हैं तो उनमें हानिकारक पदार्थ पडते हैं जो सप्तरंगों को उत्तेजित करते हैं पलाश के रंग से होली खेलते हैं तो क्षमा गम्भीरता का सद्गुण बढेगा, स्थिरता बढेगी, मजबूती और संजीदगी का स्वभाव बढेगा हृदय और मस्तिष्क की दुर्बलता दूर होगी उदासी और उन्माद दूर होगा अगर रासायनिक रंगों से होली खेलते हैं तो इसके विपरीत नुकसान होने की सम्भावना है

होली का पावन संदेश होली का संदेश है कि छोटापन-बडापन वास्तविक नहीं है, वास्तविक तुम्हारा चैतन्यपन है मैं कम पढा हूँ, धन कम है, मेरा कोई नहीं है...नहीं ! सारा जगत जिसका संकल्प है वह परमात्मा तेरा आत्मा होकर बैठा है तू अपने को दीन-हीन मत मान, तुच्छ संकीर्णताओं को छोड यही होलिकोत्सव का उद्देश्य है

Print
4817 Rate this article:
1.0

Please login or register to post comments.

Name:
Email:
Subject:
Message:
x
RSS