ब्रह्मज्ञानी साकार ब्रह्म है

ब्रह्मज्ञानी साकार ब्रह्म है

इस पंडित की आज्ञा का पालन करो। ज्यों ही उन्होंने ऐसा कहा, भैंसे ने गम्भीर मानवी वाणी में कहना शुरु किया......

संत ज्ञानेश्वर और उनके भाई-बहन निवृत्ति, सोपान एवं मुक्ताबाई को पैठण के ब्राह्मणों ने जाति से बहिष्कृत कर दिया । यह देख एक सज्जन को दया आयी और वह उन्हें अपने साथ पैठण ले गया । उन्हें गाँव में आया देख,लोग रुष्ट हो गये । 

एक पंडित ने ज्ञानेश्वरजी की हँसी उड़ाते हुए कहा :‘‘इसका नाम तो ज्ञानेश्वर है, मगर ज्ञान दो कौड़ी का भी नहीं है। इससे ज्ञानेश्वरजी के स्वाभिमान को ठेस पहुँची । 

उन्होंने कहा : ‘‘मेरा ज्ञान क्या पूछते हो ? मुझे सारे विश्व का ज्ञान है, विश्व के समस्त रूपों में मैं ही समाया हुआ हूँ ।

‘‘बस ! बस !! बस !!! पंडित ने कहा: ‘‘बड़ा आया है शेखी बघारनेवाला । देखता हूँ, किन-किन रूपों में तू समाया है। वह सामने जो भैंसा दिखायी दे रहा है, शायद वह भी तेरा ही रूप है।
ज्ञानेश्वरजी ने उत्तर दिया : ‘‘हाँ, हाँ ! मेरा ही रूप है । वह पंडित उस भैंसे के पास गया और उसने उसकी पीठ पर सटाक्-से तीन चाबुक लगाये और ज्ञानेश्वरजी की ओर व्यंग्य से देखा । ज्ञानेश्वरजी ने तुरंत अपनी पीठ उसकी ओर कर दी । सब लोग यह देखकर चकित रह गये कि पंडित के चाबुक के निशान उनकी पीठ पर उभर आये थे । किंतु पंडित पर इसका कोई असर न हुआ । 

वह बोला : ‘‘इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है । यह तो जादू से भी हो सकता है । यदि तु इस भैंसे के मुँह से वेदमंत्र सुनवाओ, तो जानूँगा कि तुमें भी ज्ञान है । तब ज्ञानेश्वरजी भैंसे के पास गये और उसकी पीठ पर हाथ फेरकर कहा : ‘‘इस पंडित की आज्ञा का पालन करो। ज्यों ही उन्होंने ऐसा कहा, भैंसे ने गम्भीर मानवी वाणी में कहना शुरु किया : *अग्निमीले पुरोहितम् यज्ञस्य देवमृत्विजं होतारं रत्नधातजम्... ।

यह देखते ही उपस्थित जन और भी आश्चर्यचकित होकर रह गये । वह पंडित और अन्य शास्त्री ज्ञानेश्वरजी के चरणों पर गिर पड़े और उन्होंने कहा : ‘‘ज्ञानेश्वर ! मान गये । तु साक्षात् भगवान हो । अवश्य तु जगत का कल्याण करोगे ।     

                                              

✍🏻सीख : ब्रह्मज्ञानी महापुरुष सामान्य मनुष्य की भाँति जीवन जीते हैं । वे अपना व्यापक ज्ञान स्वरूप दुनिया के सामने नहीं लाते। ऐसे महापुरुष हमें सौभाग्य से मिलते हैं इसलिए कैसी भी परिस्थिति आये उनका सान्निध्य कभी नहीं छोड़ना चाहिए ।

प्रश्नोत्तरी : (1) संत ज्ञानेश्वरजी ने कैसे भैंसे के मुँह से वेदमंत्र का उच्चारण करवाया ?
(2) प्रार्थना के कुछ लाभ बताईये ? 
उत्तर : हृदय पवित्र बनता है ।

🏚गृहकार्य : संत ज्ञानेश्वरजी के जीवन से जुड़ी पाँच बातें अपनी ‘बाल संस्कार की नोटबुक में लिखकर लायें ।
Previous Article हम फालतू खर्च करने के लिए राष्ट्रपति नहीं बने हैं
Next Article वैदिक मंत्रशक्ति का अद्भुत सामर्थ्य
Print
67 Rate this article:
5.0

Please login or register to post comments.