Stories Search

आदर्श-दिनचर्या

आदर्श-दिनचर्या

अभिवादनशीलस्य नित्यं वृद्धोपसेविनः।
चत्वारि तस्य वर्धन्ते आयुर्विद्या यशोबलम्।।

"जो व्यक्ति माता-पिता एवं गुरूजनों को प्रणाम करते हैं और उनकी सेवा करते हैं उनकी आयु, विद्या, यश तथा बल – चार पदार्थ बढ़ते हैं।"
Previous Article पूज्यश्री की ‘सर्वभूतहिते रतः' दृष्टि
Next Article नाग महाशय का अदभुत गुरु-प्रेम
Print
423 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.