सारस्वत्य मंत्र की अदभुत शक्तियाँ

सारस्वत्य मंत्र की अदभुत शक्तियाँ

Saraswatya Mantra Power

दि सारस्वत्य मंत्र का नियमित एवं श्रद्धापूर्वक जप किया जाय तो बुद्धिशक्ति एवं स्मृतिशक्ति का आशातीत विकास होता है। इसका प्रत्यक्ष प्रमाण है पूज्य बापूजी से सारस्वत्य मंत्र की दीक्षा लिये हुए अनेकों विद्यार्थियों का उन्नत जीवन।

ʹऑक्सफोर्ड एडवांस्ड लर्नर्स डिक्शनरीʹ के 80000 शब्दों को उनकी पृष्ठ संख्या सहित याद कर लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्डस में अपना नाम दर्ज कराने वाले वीरेन्द्र मेहता विश्व के 25 अदभुत व्यक्तियों में से एक हैं। वे भी अपनी सफलता का कारम पूज्य बापू जी से प्राप्त मंत्रदीक्षा व यौगिक प्रयोगों को मानते हैं।

फिजियोथेरेपिस्ट डॉ. राहुल कत्याल भी प्रारम्भ में एक कमजोर विद्यार्थी थे पर सारस्वत्य मंत्र के जप से उनकी प्रतिभा का तेजी से विकास हुआ और उन्होंने ऐसी व्हील चेयर का आविष्कार किया, जिसकी भूरि-भूरि प्रशंसा अमेरिका से डॉ. रूरी कूपर ने भी की। उन्हें नेशनल रिसर्च डेवलमेंट कॉरपोरेशन का राष्ट्रीय पुरस्कार तथा एक लाख रूपये नकद देकर सम्मानित किया गया। ऐसे हो रहे हैं बापू के बच्चे ! बापू के बच्चे, नहीं रहते कच्चे !

सिविल सेवा परीक्षा (आई.ए.एस.) – 2006 में सफल, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के प्रोबेशनरी अधिकारी 2006 की परीक्षा में पूरे भारत में 12वाँ स्थान तथा सन् 2005 की केन्द्रीय खुफिया अधिकारी की परीक्षा में पूरे भारत में प्रथम स्थान पाने वाले कुणाल अग्रवाल सारस्वत्य मंत्र का नियमित जप करते हैं। स्वभाव से ही विनयी कुणाल कहते हैं- भारत देश की सबसे कठिन परीक्षा आई.ए.एस. में मैंने आसानी से सफलता प्राप्त की, यह सब पूज्य बापू जी की दासी माया की कृपा है। गुरुदेव के श्रीचरणों में विनती है कि अब मैं सत्य को पाने के मार्ग पर चल पड़ूँ।

अजय रंजन मिश्रा, जो पहले कमजोर विद्यार्थी थे, सारस्वत्य मंत्र के जप से उनकी बुद्धि का अदभुत विकास हुआ और उऩ्होंने सेल्युलर नेटवर्किंट से संबंधित 110 डॉलर (लगभग 5500 रूपये) व 150 डॉलर (लगभग 7500 रूपये) मूल्य की दो पुस्तकें (1,Fundamentals of Cellular Network planning and optimization. 2. Advanced cellular network planning and optimization. ) लिखीं, जो इंगलैंड से प्रकाशित हुई हैं। आज वे नोकिया मोबाइल कम्पनी में ग्लोबल सर्विसेस प्रोडक्ट मैनेजर हैं। भैंसे चराने वाला क्षितिज सोनी, जिसके लिए ढाई रूपये की टायर की चप्पलें खरीदकर पहनना भी मुश्किल होता था, मोबिल ऑयल के डिब्बे में पानी ले जाता और रात की रखी रोटी नमक के साथ अथवा जैसे-तैसे चबा लेता था, ऐसा गरीब बालक व्रत, संयम और पूज्य बापू जी से प्राप्त सारस्वत्य मंत्रजप के प्रभाव से आज गो एयर (हवाई जहाज कम्पनी) में एयरक्राफ्ट इंजीनियर है।

सन् 2006 का ʹबाल श्रीʹ पुरस्कार, जो कि भारत सरकार की ओर से 16 वर्ष तक के बच्चों के लिए सर्वोच्च पुरस्कार है, प्राप्त करने वाली भव्या पंडित संगीत जगत की नवोदित गायिका हैं, जिनके गायन की तारीफ प्रसिद्ध शहनाई वादक बिस्मिल्लाह खाँ ने भी की थी और कई चैनलों पर जिनके संगीत-कार्यक्रम प्रसारित हो चुके हैं। वे भी पूज्य बापू जी से प्राप्त सारस्वत्य मंत्र पूज्य बापूजी की कल्याणमयी कृपा का अनुदान है। श्रद्धा-भक्ति से जिस विद्यार्थी ने भी सारस्वत्य मंत्र का आश्रय लिया है, उसकी प्रज्ञा, स्मृतिशक्ति, निर्णयक्षमता का विलक्षण विकास हुआ है और हर क्षेत्र में सफलता उसके कदम चूमने लगी है।

आप भी ऐसे सौभाग्यशाली बनिये

पूज्य बापू जी विद्यार्थियों को सारस्वत्य मंत्र की दीक्षा देते हैं। इस मंत्र के जप से बुद्धि कुशाग्र बनती है और सभी क्षेत्रों में सफलता पाने की योग्यता विकसित होने लगती है। दीक्षा के समय सिखायी जाने वाली यौगिक युक्तियों से फेफड़े व हृदय मजबूत बनते हैं, रोगप्रतिकारक शक्ति व धारणाशक्ति बढ़ती है। ऐसे अनेक-अनेक फायदे होते हैं। सारस्वत्य मंत्र की दीक्षा लेकर कई विद्यार्थियों ने अपना भविष्य उज्जवल बनाया है। आप भी ऐसे सौभाग्यशाली बनिये।

Print
7782 Rate this article:
4.1

Name:
Email:
Subject:
Message:
x
RSS