एक विलक्षण सदगुण-मौन
Next Article सनातन धर्म ही राष्ट्रीयता है
Previous Article दक्षिण गुजरात - योग व उच्च संस्कार कार्यक्रम

एक विलक्षण सदगुण-मौन

"दीपक जलता है तो बत्ती और तेल जलता है। इसी तरह जितना अधिक बोला जाता है, अंदर की शक्ति उतनी ही नष्ट होती है।" 

-ब्रह्मलीन ब्रह्मनिष्ठ साँईं श्री लीलाशाह जी महाराज की हितभरी वाणी

मौन का अर्थ है अपनी शक्ति का व्यय न करना। मनुष्य जैसे अन्य इन्द्रियों से अपनी शक्ति खर्च करता है, वैसे बोलने से भी अपनी बहुत शक्ति व्यय करता है। आजकल देखोगे तो छोटे बालक तथा बालिकाएँ भी कितना वाद विवाद करते हैं। उन्हें इसकी पहचान ही नहीं है कि हमें जो कुछ बोलना है, उससे अधिक तो नहीं बोलते और जो कुछ बोलते हैं वह ऐसा तो नहीं है,जो दूसरे को अच्छा न लगे या दूसरे के मन में दुःख उत्पन्न करे।

 कहते हैं कि तलवार का घाव तो भर जाता है किंतु जीभ से कड़वे शब्द कहने पर जो घाव होता है, वह मिटने वाला नहीं है। इसलिए सदैव सोच-समझकर बोलना चाहिए। जितना हो सके उतना मौन रहना चाहिए।

 महात्मा गांधी प्रति सोमवार को मौनव्रत रखते थे। मौन धारण करने की बड़ी महिमा है। इसे धारण करोगे तो बहुत लाभ प्राप्त करोगे।

 💠अनमोल वचन 
 "आप कम बोलें, सारगर्भित बोलें, सुमधुर और हित से भरा बोलें। मानवी शक्तियों को हरने वाली निंदा, ईर्ष्या, चुगली, झूठ, कपट – इन गंदी आदतों से बचें और मौन व सारगर्भिता का सेवन करें।" 
          -पूज्य बापू जी 

 ✒सोचें व जवाब दें- 
 व्यर्थ की बातें करने वाले का क्या नुकसान होता है ? 

 दीपक के दृष्टांत से क्या सीख मिलता है ? 

 🔖क्रियाकलापः आप प्रतिदिन कुछ समय मौन रखने का संकल्प करें।

📚हम भारत के लाल हैं
Next Article सनातन धर्म ही राष्ट्रीयता है
Previous Article दक्षिण गुजरात - योग व उच्च संस्कार कार्यक्रम
Print
5825 Rate this article:
5.0
Please login or register to post comments.
RSS
1345678910Last